Refurbished Means in Hindi | Refurbished Phone kya hai

दोस्तों, आज के समय में ऑनलाइन खरीदारी का चलन काफी बढ़ गया है। ऐसे में यदि आप भी ऑनलाइन शॉपिंग के शौकीन हैं। तो ऐसा जरूर हुआ होगा कि कई बार आपने ऑनलाइन प्रोडक्ट में Refurbished का label लगा हुआ देखा होगा। आपको वो प्रोडक्ट पसंद आया लेकिन उस पर लगे label को देखकर आप उस प्रोडक्ट को खरीदने में हिचकते हैं। ऐसा इसलिए होता है क्योंकि आपको Refurbished meaning in Hindi का पता नहीं होता है। और इस चक्कर में आपके सामने से एक अच्छी डील आपके हाथ से निकल जाती है।

ऑनलाइन शॉपिंग करते समय आप सोचते हैं कि मुझे एक अच्छा प्रोडक्ट छूट में मिल जाए। ऐसा तभी होगा जब आपको ऑनलाइन शॉपिंग में इस्तेमाल किए जाने वाले term की अच्छी जानकारी होगी। Refurbished आइटम क्या होता है? इसे खरीदना चाहिए या नहीं? क्या रिफर्बिश्ड प्रोडक्ट खराब होते हैं? ऐसे कई प्रकार के सवाल आपके मन में आते हैं जब आप रिफर्बिश्ड का label देखते हैं। आपके इन्हीं सवालों का जवाब इस पोस्ट में दिया गया है।

Refurbished means in Hindi

Refurbished Means in Hindi | Refurbished Phone kya hai

Refurbished का मतलब – ऐसे प्रोडक्ट जिन्हें किसी कारणवश manufacturer कंपनी या Seller को वापस कर दिया जाता है। इन प्रोडक्ट की कार्यक्षमता और खामियों की जांच की जाती है और उसे repair किया जाता है। तब जाके इसे मार्केट में दोबारा बिकने के लिए उतारा जाता है। इसे ज्यादातर original manufacturer द्वारा ही repair किया जाता है। लेकिन कई बार Seller भी इसे Repair कर reselling करते हैं।

इसे और भी आसान भाषा में समझने के लिए एक उदाहरण देखते हैं। मान लीजिए आपने किसी कंपनी के Phone को खरीदा। उस प्रोडक्ट पर आपको 14 दिन की return policy मिलती है। आपने इस प्रोडक्ट को किसी कारण 14 दिन के अंदर ही Return कर दिया। जब कंपनी के पास वह प्रोडक्ट पहुंचेगा, तो सबसे पहले उसकी functionality और उसमें मौजूद Defect की जांच कर उसे सुधारा जाएगा। फिर दोबारा से उसे मार्केट में बेचने के लिए उपलब्ध कराया जाता है। ये ही Refurbished phone meaning in Hindi होता हैं।

ये कुछ कारण हो सकते हैं किसी product को return करने के।

  • Customer ने एक damaged प्रोडक्ट को रिसीव किया या फिर उसमें कोई डिफेक्ट पाया।
  • प्रोडक्ट में Shipping के समय स्क्रैच आ गया या कोई पार्ट टूट गया।
  • कस्टमर ने प्रोडक्ट रिसीव करने के बाद अपना Mind Change कर लिया और सिर्फ़ बॉक्स को ओपन कर बिना यूज किए ही रिटर्न कर दिया।

कई बार ऐसा भी होता है कस्टमर ने नया डिवाइस खरीदा और उसे बिना यूज किए ही वापस कर दिया। अब seller ने उस पर Refurbished का label लगाया और मार्केट में Sale के लिए डाल दिया। ऐसे में आपको बिलकुल नया मोबाइल कम दाम में मिल जाता है।

कई कंपनी या सेलर Refurbished की जगह अन्य शब्दों का भी यूज करती हैं – जैसे re-certified, reconditioned, renewed ( Used by Amazon ). इसलिए इन शब्दों को देखकर confuse नहीं होना है।

Refurbished vs Used item

अगर आप रिफर्बिश्ड आइटम को सैकेंड हैंड समझ रहे हैं, तो ऐसा नहीं है। रिफर्बिश्ड प्रोडक्ट अधिकतम return policy के अंदर ही वापस किए होते हैं, जोकि सामान्यता 14 से 30 दिन की होती है। जबकि Used item 6 महीने या 1 साल से भी ऊपर यूज किए हो सकते हैं।

रिफर्बिश्ड प्रोडक्ट की अच्छे से जांच की गई होती है और ये सुनिश्चित किया जाता है की सभी function अच्छे से work करें। इस प्रकार ये डिफेक्ट से मुक्त होते है। जबकि Used item में डिफेक्ट हो भी सकता है और नहीं भी। Used आइटम को repair या Check नहीं किया जाता। ये आपके उपर होता है कि आप उसमे डिफेक्ट खोज पाएं।

इसलिए रिफर्बिश्ड प्रोडक्ट को Used item की अपेक्षा अधिक prefer करना चाहिए।

Refurbished Grading Kya hai

अगर आप रिफर्बिश्ड आइटम खरीदना चाहते हैं, तो ये जानना बहुत जरूरी है कि रिफर्बिश ग्रेडिंग क्या होती है। इसकी मदद से ही आप अच्छे प्रोडक्ट को list कर पाएंगे।

Refurbished Grading प्रोडक्ट की क्वालिटी को दर्शाने का तरीका है। इसकी मदद से ही आप जान पाएंगे कि कोई प्रोडक्ट खामियों से कितना मुक्त है। ये कुछ फैक्टर हैं, जोकि रिफर्बिश्ड आइटम को ग्रेड देने में consider किए जाते हैं :-

  • प्रोडक्ट की बॉडी पर कितने ज्यादा स्क्रैच हैं।
  • रिटर्न करते समय प्रोडक्ट की पैकेजिंग कंडीशन क्या थी।
  • प्रोडक्ट को पिछले कस्टमर द्वारा कितने समय तक यूज किया गया है।

इन सभी फैक्टर के आधार पर रिफर्बिश्ड प्रोडक्ट को ये चार तरह की ग्रेडिंग दी जाती है।

Grade A – ये रिफर्बिश आइटम की बेस्ट क्वालिटी है। जोकि काफी हद तक बिल्कुल नए डिवाइस के जैसा ही होता है।

Grade B – इसके अंतर्गत आने वाले प्रोडक्ट की कार्यक्षमता की जांच की गई होती है। लेकिन इनमे बहुत ही हल्के डिफेक्ट जैसे की स्क्रैच होने की वजह से Grade A में नहीं रख सकते।

Grade C – ये low क्वालिटी के प्रोडक्ट होते हैं, जोकि working condition में रहते है। इन्हे काफी ज्यादा यूज किया गया होता है। इनकी बॉडी पर अधिक स्क्रैच होते हैं।

Grade D – ये रिफर्बिश्ड आइटम की सबसे खराब क्वालिटी है। इनमे काफी ज्यादा मात्रा में डिफेक्ट होते हैं। इन्हे बहुत ही अधिक मात्रा में यूज किया गया होता है।

Pros : रिफर्बिश्ड प्रोडक्ट लेने से फायदे

जब आप रिफर्बिश्ड प्रोडक्ट लेते हैं, तो आपको ये फायदे होते हैं।

  • इन प्रोडक्ट को लेने से आपके पैसों की बचत होती है जोकि इसका सबसे बड़ा advantage है। ये रेगुलर प्रोडक्ट की अपेक्षा कम दाम में मिल जाते हैं।
  • ये प्रोडक्ट वारंटी के साथ आते हैं। कई कंपनी आपको Refurbished item पर 6 महीने से लेकर 1 साल तक की वारंटी देती हैं।
  • इन प्रोडक्ट को खरीदने से आप पर्यावरण को साफ रखने में भी मदद करते हैं। क्योंकि इन प्रोडक्ट को खरीदने से आप e-waste को कम कर सकते हैं।
  • कई बार आपको बिलकुल नया डिवाइस अपने रेगुलर प्राइस से कम दाम में मिल जाता है।

Cons : रिफर्बिश्ड आइटम लेने से नुकसान

अगर आप रिफर्बिश्ड आइटम लेने की सोच रहे हैं , तो आपको ये पॉइंट भी consider करना चाहिए।

  • आपको इन प्रोडक्ट पर कम समय की वारंटी मिलती है रेगुलर प्रोडक्ट की अपेक्षा।
  • क्योंकि ये कस्टमर द्वारा वापस किए होते हैं, इसलिए ये नया नहीं होता है।
  • इनकी पैकेजिंग भी brand new device की तरह नहीं होती है। ये आपको साधारण पैकेजिंग में मिलती है।
  • इन प्रोडक्ट को खरीदने पर हो सकता है कि आपको supporting stuff जैसे की चार्जर, हेडफोन आदि न मिले।

Refurbished प्रोडक्ट खरीदते समय सावधानी

रिफर्बिश्ड प्रोडक्ट खरीदते समय आपको ये बातें ध्यान रखनी चाहियें।

  • ऐसे प्रोडक्ट को खरीदते समय ये जरूर ध्यान दे कि उनकी रिपेयरिंग Manufacture द्वारा की गई है या फिर Seller द्वारा। क्योंकि कई बार Seller खुद ही रिपेयरिंग करते हैं, जिनमे की सस्ते क्वालिटी के सामान का यूज होता है।
  • प्रोडक्ट लेते समय ये भी देखें कि उस पर कितने समय की वारंटी मिल रही है।
  • अगर आप रिफर्बिश्ड प्रोडक्ट खरीदते हैं तो उसकी return policy को चेक करें। Return period के अंदर उस प्रोडक्ट को यूज करें और कोई कमी मिलने पर वापस भी कर पाएंगे।
  • रिफर्बिश्ड आइटम सिर्फ trusted platform से ही खरीदें।
  • ऐसे प्रोडक्ट लेते समय ये भी चेक करें कि आपको उस प्रोडक्ट से जुड़े जरूरी सामान मिल रहे है या नहीं।
  • ज्यादा महंगे रिफर्बिश्ड सामान खरीदने से बचें। क्योंकि उनमें और नए प्रोडक्ट की प्राइस में ज्यादा अंतर नही होता है।
  • Refurbished प्रोडक्ट लेना है तो Grade A और Grade B के ही प्रोडक्ट को खरीदें।
  • अलग अलग वेबसाइट पर जाकर उस रिफर्बिश्ड प्रोडक्ट के प्राइस को compare करें।

कैसे रिफर्बिश्ड प्रोडक्ट न खरीदें

जब भी आप रिफर्बिश्ड प्रोडक्ट लेने जाएं तो इन प्रोडक्ट को खरीदने से बचें।

  • लैपटॉप के लिए Hard Drive लेना है तो नया ही खरीदें। रिफर्बिश्ड हार्ड ड्राइव कभी न खरीदें।
  • अपने लैपटॉप के लिए बैटरी लेनी है तो रिफर्बिश्ड बैटरी कभी न लें।
  • ऐसे प्रोडक्ट भी न खरीदें जोकि आपके स्किन को touch करते हैं। जैसे कि हेडफोन, earbuds आदि।

Refurbished आइटम कहाँ से खरीदें

अगर आप रिफर्बिश्ड प्रोडक्ट लेने को सोच रहे हैं, तो केवल Trusted वेबसाइट से ही खरीदें। ये कुछ कंपनी और सेलर हैं जहां से आप रिफर्बिश्ड आइटम खरीद सकते हैं।

  1. Apple
  2. Samsung
  3. Dell
  4. Microsoft
  5. Google
  6. Amazon Renewed
  7. ebay

Conclusion

तो दोस्तों, आप आपने सीखा कि Refurbished means Hindi क्या होता है। रिफर्बिश्ड प्रोडक्ट लेते समय किन बातों का ध्यान रखना चाहिए आपको पता चल गया है। अब ऑनलाइन शॉपिंग करते समय आप Refurbished शब्द देखकर परेशान और कन्फ्यूज नहीं होंगे। ऊपर बताए गए बिंदुओं को ध्यान में रखें और आप अपने लिए एक बेहतर प्रोडक्ट का चुनाव कर पाएंगे।

जानकारी अच्छी लगी तो इसे दूसरों को शेयर करें। आगे भी ऐसे ही जानकारी वाले पोस्ट पढ़ने के लिए नोटीफिकेशन बेल को एनेबल करें।

More to Read:-

Spread the love

Leave a Comment

ऐसे करे Instagram से कमाई Instagram पर अपने पहले 100k Follower पाए इन ट्रिक्स से Father’s Day पर इन क्वोट्स को पापा को भेज कर उनको स्पेशल फील कराए। यहाँ देखे U.P बोर्ड के कक्षा 10 , 12 का रिजल्ट Whatsapp पर डिलीट किये मैसेज ऐसे देखे
%d bloggers like this: